TODAY GK IN HINDI FOR EXAMS

 

 

TODAY GK IN HINDI

 

केंद्रीय शुष्‍क भूमि कृषि अनुसंधान(CRIDA) अवस्थित है – हैदराबाद में

 

उद्यान एवं वानिकी विश्‍वविद्यालय स्थित है – सोलन में

 

राष्‍ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रबंधन अकादमी अवस्थित है – हैदराबाद में

 

सेंट्रल फूड टेक्‍नॉ‍लोजिकल रिसर्च इंस्‍टीटयूट स्थित है – मैसूर में

 

केंद्रीय शुष्‍क बागवानी संस्‍थान स्थित है – बीकानेर में

ICAR-CIAH, Bikaner

राष्‍ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्‍थान स्थित है – करनाल में

 

राष्‍ट्रीय अंतर्देशीयनौवहनसंस्‍थान (NINI) अवस्थित है – पटना में

 

भारतीय चावल शोघ-संस्‍थान स्थित है – कटक में

 

गंगा नदी का वह भाग, जिसको राष्‍ट्रीय जलमार्ग घोषित किया गया है – इलाहाबाद से

हल्दिया तक

 

शस्‍य वानिकी का राष्‍ट्रीय शोघ केंद्र अवस्थित है – झांसी में

 

भारतीय शाकबाजी अनुसंधान संस्‍थान स्थित है – वाराणसी में

 

‘राष्‍ट्रीय कृषि विपणन संस्‍थान’ स्थित है – जयपुर में

 

केंद्रीय खनन अनुसंधान संस्‍थान स्थित है – नागपुर में

 

खेतों में प्रयुक्‍त होने वाले औजारों और मशीनों पर शोघ और विकास कार्य ‘सेंट्रल इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग’ द्वारा किया जा रहा है, जो स्थित है – भोपाल में

 

‘राष्‍ट्रीय एटलस और थिमेटिक मानचित्र संगठन’ स्थित है – कोलकाता में

 

‘इंडियन ब्‍यूरो ऑफ माइंस’ का मुख्‍यालय अवस्थित है – नागपुर में

 

भारत में कुल राष्‍ट्रीय राजमार्ग (NATIONAL HIGH WAYS)और उनकी कुल लंबाई तकरीबन है – क्रमश: 250 से अधिक और 100087 किमी.

 

 

भारत में नेचुरल हिस्‍ट्री का राष्‍ट्रीय संग्रहालय स्‍थापित है – नई दिल्‍ली, मैसूर, भोपाल एवं भुवनेश्‍वर में

 

 

भारतीय हीरा संस्‍थान स्‍थापित है – सूरत में

 

 

केंद्रीय उपोष्‍ण बागवानी संस्‍थान अवस्थित है – लखनऊ में

 

 

देश के कुल यातायात में सड़क यातायात का भाग है – 80 प्रतिशत

 

 

भारतीय दलहन अनुसंधान संस्‍थान स्थित है – कानपुर में

 

 

‘भारतीय गन्‍ना अनुसंधान संस्‍थान’ स्थित है – लखनऊ में

IISR, LUCKNOW || INDIAN INSTITUTE OF SUGARCANE RESEARCH, LUCKNOW || भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान - YouTube

 

राष्‍ट्रीय दुग्‍ध विकास बोर्ड स्थित है – आनंद में

 

 

पौध संरक्षण, संगरोध एवं भंडारण निदेशालय अवस्थित हैं – फरीदाबाद में

 

 

वह राज्‍य जिसमें राष्‍ट्रीय राजमार्गों की सर्वाधिक लंबाई पाई जाती है – उत्‍तर प्रदेश

 

 

स्‍वर्ण चतुर्भुज परियोजना(Golden Quadrilateral) का संबंध है – राजमार्ग के विकास से

 

 

 प्रधानमंत्री की ग्राम सड़क योजना है – उन गांवों में सामुदायिक जीवन के विकास हेतु जो सड़क से भली-भांति संबद्ध नहीं हैं।

 

 

 

भारत का सबसे लंबा राष्‍ट्रीय राजमार्ग है – राष्‍ट्रीय राजमार्ग

 

 

राष्‍ट्रीय जैवि‍क खेती केंद्र (एन.सी.ओ.एफ.) स्थित है – गाजियाबाद में

 

 

राष्‍ट्रीय मार्ग क्र.4 निम्‍नलिखित से होकर जाता है – महाराष्‍ट्र, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु

 

 

भारत की स्‍वर्णिम चतुर्भुज परियोजना (GOLDEN QUEADRILATRAL) जोड़ती है – दिल्‍ली – मुंबई – चेन्‍नई – कोलकाता को

 

 

भारत का वह राज्‍य जिसमें प्रांतीय राजमार्गों की सकल लंबाई सबसे अधिक है – महाराष्‍ट्र

 

 

‘प्रधानमंत्री भारत जोड़ो परियोजना’ संबंधित है – राजमार्गों के विकास से

 

 

महाराष्‍ट्र में 6 पथ(6 LANE) एक्‍सप्रेस मार्ग द्वारा संबद्ध किया गया है – मुंबई तथा पुणे को

 

 

 

उत्‍तर-दक्षिण गलियारे (North-South Corridor) पर स्थित नगरों का उत्‍तर से दक्षिण का क्रम है – आगरा, ग्‍वालियर, नागपुर, कृष्‍णागिरी

 

 

आगरा, भोपाल, धुले तथा ग्‍वालियर में से वह नगर जो राष्‍ट्रीय राजमार्ग 3 से नहीं जुड़ा है – भोपाल

 

 

दो राष्‍ट्रीय राजमार्ग-कन्‍याकुमारी-श्रीनगर राजमार्ग   एवं पोरबंदर-सिल्‍चर राजमार्ग, जो राष्‍ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना के अंतर्गत निर्मित  हो रहे हैं, एक दूसरे से मिलेंगे – झांसी में

 

 

भारत का 40 प्रतिशतसड़क परिवहन होता है – राष्‍ट्रीय राजमार्ग से

 

 

भारतीय राज्‍यों का उनके प्रति 100 वर्ग किमी. क्षेत्र में उनकी भूतल मार्गों की लंबाई के अवरोही क्रम में सही अनुक्रम है – पंजाब, तमिलनाडु, महाराष्‍ट्र, हरियाणा

 

 

वह राष्‍ट्रीय राजमार्ग जिसकी मध्‍य प्रदेश में लंबाई सर्वाधिक है – एन.एच.-3 आगरा -ग्‍वालियर – देवास – मुंबई

 

‘जवाहर सुरंग’ गुजरती है –  बनिहाल दर्रे से

 

बनिहाल पीर पंजाल पर्वतश्रेणी का एक दर्रा है, जो जम्मू कश्मीर राज्य में स्थित है। 

 

 

राष्‍ट्रीय राजमार्ग संपूर्ण सड़क परिवहन आवश्‍यकता के लगभग 40 प्रतिशत की पूर्ति करते हैं, राष्‍ट्रीय राजमार्ग संख्‍या 7 देश का सबसे बड़ा राजमार्ग है।

 

 

 

अमृतसर से दिल्‍ली होकर कोलकाता तक के राष्‍ट्रीय राजमार्ग की संख्‍या है – 2

 

भारत में सबसे पहले रेलमार्ग तैयार हुआ था -1853 में

 

भारत की पहली रेलवे लाइन बनी थी – मुंबई-थाणे के बीच 1853 में

 

‘बड़ी लाइन’ की दो पटरियों के बीच की दूरी होती है –  फीट

 

भारत के रेल मंत्रालय की बुलेट-ट्रेन चलाने की योजना है, – मुंबई-अहमदाबाद के मध्‍य

 

उत्‍तर-मध्‍य रेलवे जोन(क्षेत्र) का मुख्‍यालय स्थित है – इलाहबाद में

 

उत्‍तर-पश्चिम रेलवे का मुख्‍यालय जयपुर में स्‍थित है।

 

 

फेयरी क्‍वीन विश्‍व के सबसे पुराने चालू इंजन को प्रयोग करने वाली गाड़ी है तथा भारतीय रेलवे इसके द्वारा वन्‍यजीवन तथा विरासत स्‍थलों की यात्रा आयोजित करती है।

 

 

गोरखपुर से मुंबई की रेलयात्रा का न्‍यूनतम दूरी वाला मार्ग है – इलाहाबाद होकर

Gorakhpur railway station will become world class

 

साल की लकड़ी का उपयोग अधिकतर होता है – रेल्‍वे स्‍लीपर बनाने के उद्योग में

 

तीसरी रेल कोच फैक्‍टरी थ्‍साापित की जा रही है – रायबरेली में

 

वह दो रेल्‍वे स्‍टेशनों जिन्‍हें जोड़ने वाली रेल लाइन को यूनेस्‍को ने धरोहर के रूप में मान्‍यता दी है – सिलीगुड़ी तथा दार्जिलिंग

 

मालाबार, कोंकण, कोरोमंडल तथा उत्‍तरी सरकार तटोंमें से ‘कोच्चि बंदरगाह’ से संबंधित है – मालाबार तट

 

 

डीजल रेल इंजन बनाए जाते हैं – मडुवाडीह में

 

 

वह राज्‍य जहां यात्री रेल डिब्‍बों का बड़ी मात्रा में निर्माण होता है – पंजाब और तमिलनाडु

 

रेल्‍वे स्‍टाफ कालेज स्थित है – बड़ौदा में

 

 

कोंकण रेल्‍वे जोड़ता है – रोहा से मैंगलोर को

 

 

भारत में सबसे बड़ा पोत-प्रांगण (शिपयार्ड) है – कोच्चि (कोचीन)

 

 

वह रेल खंड जहां पर प्रथम सी.एन.जी. ट्रेन बनाया गया है – गुजरात

 

 

कोंकण रेल्‍वे से सर्वाधिक लाभान्वित राज्‍य है – गोवा, कर्नाटक, महाराष्‍ट्र, केरल

 

 

भारत में वह राज्‍य जो रेल सेवा से बंचित है – सिक्किम

 

 

बेलगाम, मडगांव, रत्‍नागिरी एवं उड़पी में से कोंकण रेलमार्ग नहीं जोड़ता है – बेलगाम को

1 thought on “TODAY GK IN HINDI FOR EXAMS”

  1. Pingback: TODAY GK IN HINDI 14JUN-20JUN 21 - Gour Institute

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Copy