Important Scientific Laws For Exams

 

अवोगाद्रो का नियम (गैस)

Type of Disease & Their Examples
यह बताता है कि समान तापमान और दबाव पर समान मात्रा में गैसें समान मात्रा में अणुओं की होती हैं

 

चाहे उनकी रासायनिक प्रकृति और भौतिक गुणों की परवाह किए बिना।

 

यह संख्या (एवोगैड्रो की संख्या) 6.022 X10 23 है।

 

यह 22.41 लीटर की मात्रा में मौजूद किसी भी गैस के अणुओं की संख्या है

 

और यह सबसे हल्की गैस (हाइड्रोजन) के लिए एक ही है जैसे कार्बन गैस या ब्रोमीन जैसे भारी गैस के लिए।

 

1811 में इतालवी केमिस्ट Amedeo Avogadro (1776-1856) द्वारा मंचित

 

बॉयल के नियम (गैस)

 

एक निश्चित तापमान पर रखी गई एक आदर्श गैस की निश्चित मात्रा के लिए, P [दबाव] और V [मात्रा] व्युत्क्रमानुपाती होते हैं (जबकि एक दोगुना होता है, दूसरा भाग)।

 

दूसरे शब्दों में, दबाव और आयतन का उत्पाद एक आदर्श गैस के लिए एक स्थिर है।

 

1662 में एक आयरिश कैमिस्ट, रॉबर्ट बॉयल द्वारा प्रस्तावित

 

चार्ल्स लॉ (गैस)

यह बताता है कि

 

गैस का आयतन गैस के तापमान के सीधे आनुपातिक है,

 

बशर्ते कि गैस की मात्रा और दबाव स्थिर रहे।

 

यह पहली बार 1802 में फ्रांसीसी प्राकृतिक दार्शनिक जोसेफ लुई गे-लुसाक द्वारा प्रकाशित किया गया था,

 

जो जैक्स चार्ल्स द्वारा 1780 के दशक से अप्रकाशित काम का श्रेय दिया गया था।

 

इसे गे-लुसैक लॉ के नाम से भी जाना जाता है।

MONEY & BANKING IN INDIA PART -2

 

कूलम्ब का नियम (इलेक्ट्रोस्टैटिक्स)

 

दो बिंदुओं के आरोपों के बीच बातचीत के इलेक्ट्रोस्टैटिक्स बल का परिमाण सीधे आकृतियों के परिमाण के गुणन और उनके बीच की दूरी के वर्ग के व्युत्क्रमानुपाती के समानुपाती होता है।

 

1783 में फ्रांसीसी भौतिक विज्ञानी चार्ल्स ऑगस्टिन डी कूलम्ब द्वारा प्रकाशित

 

 

फैराडे का विद्युत चुम्बकीय प्रेरण का नियम

 

किसी भी बंद सर्किट में प्रेरित इलेक्ट्रोमोटिव बल (EMF) सर्किट के माध्यम से चुंबकीय प्रवाह के परिवर्तन की समय दर के बराबर है।

 

 

1831 में अंग्रेजी भौतिक विज्ञानी माइकल फैराडे द्वारा प्रकाशित।

 

 

लोच के हुक का नियम

 

यह बताता है कि,

 

किसी वस्तु के अपेक्षाकृत छोटे विकृति के लिए, विरूपण का विस्थापन या आकार सीधे विकृत बल या भार के समानुपाती होता है।

 

 

1660 में अंग्रेजी वैज्ञानिक रॉबर्ट हुक द्वारा खोजा गया।

 

 

 

जूल का नियम (विद्युत)

 

यह बताता है कि,

 

विद्युत प्रवाह द्वारा उत्पन्न ऊष्मा सीधे चालक के प्रतिरोध, धारा के वर्ग, और जिस समय के लिए प्रवाहित होती है, आनुपातिक होती है।

 

 

1850 के आसपास अंग्रेजी भौतिक विज्ञानी जेम्स प्रेस्कॉट जूल द्वारा दिया गया।

NATIONAL PARK OF MP

1 thought on “Important Scientific Laws For Exams”

  1. Pingback: GK Questions and Answers for IAS - Gour Institute

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Copy